जिले में बढ़े 20 हजार मतदाता, कलेक्टर ने राजनीतिक दलों को दी जानकारी - khabar abhi tak

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, February 23, 2019

जिले में बढ़े 20 हजार मतदाता, कलेक्टर ने राजनीतिक दलों को दी जानकारी


जबलपुर। जिले में कुल मतदाताओं की संख्या अब 17 लाख 87 हजार 309 हो गई है। यह विधानसभा चुनाव के मुकाबले लगभग 20 हजार अधिक है। विधानसभा चुनाव के समय जिले में कुल 17 लाख 67 हजार 369 मतदाता थे। यह जानकारी मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन को लेकर कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर श्रीमती भारद्वाज ने राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों को दी । उन्होंने बताया कि अंतिम मतदाता सूची में 9 लाख 24 हजार 978 पुरूष तथा 8 लाख 62 हजार 258 महिला मतदाता शामिल हैं।
कलेक्टर ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिले में फोटो मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के लिए चलाये गये कार्यक्रम में मतदाता सूची में कुल 52 हजार 542 पात्र मतदाताओं के नाम जोड़े गये, जबकि 32 हजार 320 मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से विलोपित किये गये हैं। उन्होंने बताया कि विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के तहत 14 हजार 078 मतदाताओं के नामों में संशोधन भी किया गया है। श्रीमती भारद्वाज के मुताबिक मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के तहत जिले में 18 से 19 आयुवर्ग के 34 हजार 159 युवाओं के नाम मतदाता सूची में जोड़े गये हैं जो आने वाले लोकसभा चुनाव में पहली बार अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे । उन्होंने बताया कि 18 से 19 आयुवर्ग के मतदाताओं की संख्या जिले के कुल मतदाताओं का 1.9 फीसदी है । इसी तरह 20 से 29 वर्ष की आयु के 4 लाख 18 हजार 148 युवाओं के नाम मतदाता सूची में शामिल हैं, जो कुल मतदाताओं का 23.4 फीसदी है।

श्रीमती भारद्वाज ने बताया कि जिले में 18 से 19 एवं 20 वर्ष के युवा मतदाताओं की संख्या निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित मापदण्डों की अपेक्षा से बेहतर है । उन्होंने बताया कि जिले में जेण्डर रेशियो भी विधानसभा चुनाव की तुलना में बेहतर हुआ है । अब प्रति एक हजार पुरूष मतदाताओं की संख्या के पीछे महिला मतदाताओं की संख्या 932.2 हो गई है, जो विधानसभा चुनाव के समय 930.71 थी ।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के बाद भी मतदाता सूची में नाम जोड़े जाने की प्रक्रिया लोकसभा चुनाव के लिए नाम-निर्देशन पत्र जमा करने की अधिसूचना जारी होने तक जारी रहेगी। इस दौरान कोई भी नागरिक जो पात्र मतदाता है अपना नाम मतदाता सूची में जुड़वा सकेगा । ऐसे मतदाताओं के नाम लोकसभा चुनाव के पहले प्रकाशित होने वाली पूरक सूची में जोड़े जायेंगे ।

मतदाता सूची में नाम जुड़वाने दो और तीन मार्च को लगेंगे विशेष शिविर 

जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीमती भारद्वाज ने बैठक में बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार ऐसे पात्र व्यक्ति जो विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में मतदाता सूची में अपना नाम नहीं जुड़वा पाये हैं उनके लिए शनिवार दो मार्च और रविवार तीन मार्च को प्रत्येक मतदान केन्द्र पर विशेष शिविर लगाये जायेंगे । श्रीमती भारद्वाज ने बैठक में मौजूद राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों से अनुरोध किया है कि यदि कोई नाम मतदाता सूची में जुडऩे से छूट गया है तो अपने बूथ लेवल एजेंट के माध्यम से ऐसे मतदाताओं से फार्म भरवाकर बीएलओ को दे सकते हैं । उन्होंने बताया कि विशेष शिविरों में बीएलओ दिन भर अपने मतदान केन्द्र पर मौजूद रहेंगे और मतदाताओं से नाम जुड़वाने के आवेदन प्राप्त करेंगे । श्रीमती भारद्वाज ने स्पष्ट किया कि मतदान केन्द्रों पर लगाये जाने वाले इन विशेष शिविरों में केवल नाम जुड़वाने के आवेदन ही प्राप्त किये जायेंगे । मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के बाद नाम विलोपित करने अथवा नामों में संशोधन की कार्यवाही नहीं होगी ।

बैठक में कलेक्टर ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन और वीवीपेट की फस्र्ट लेवल चेकिंग की चल रही प्रक्रिया की जानकारी भी दी । उन्होंने बताया इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की जिले में उपलब्ध 3 हजार 169 बैलेट यूनिट में से अभी तक 2 हजार 590 बैलेट यूनिट की प्रथम स्तर की जांच पूरी हो चुकी है, जिसमें 2 हजार 574 को सही पाया गया और खराब पाये जाने पर 16 बैलेट यूनिट को वापस निमार्ता कंपनी को भेजा जा रहा है । इसी तरह जिले में उपलब्ध 2 हजार 619 कंट्रोल यूनिट में से 2 हजार 231 की एफएलसी पूरी हो गई है । इनमें से 2 हजार 209 सही पाई गई हैं जबकि 22 कंट्रोल यूनिट में खामियां पाई गई हैं । श्रीमती भारद्वाज ने बताया कि बैलेट यूनिट और कंट्रोल यूनिट के साथ ही जिले में 2 हजार 777 वीवीपेट मशीनों में से अभी तक 2 हजार 117 की जांच कर ली गई है और 158 वीवीपेट मशीनों को तकनीकी खामियों की वजह से निर्माता कंपनी को वापस बैंगलुरू भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि वोटिंग मशीनों और वीवीपेट की एफएलसी का कार्य भारत इलेक्ट्रॉनिक्स निगम के इंजीनियरों की देखरेख और राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों की मौजूदगी में किया जा रहा है । जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि लोकसभा चुनाव के लिए जिले से अतिरिक्त वोटिंग मशीनों की मांग की गई । जिसे निर्वाचन आयोग द्वारा स्वीकार कर लिया गया है और अतिरिक्त मशीनों सोलापुर से यहां आयेंगी । बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी नम:शिवाय अरजरिया, सभी विधानसभा क्षेत्र के निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के दिनेश यादव, राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के राजेश जायसवाल, बहुजन समाज पार्टी के शरण चौधरी तथा अन्य राजनैतिक दलों के पदाधिकारी मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here