दिल्ली में रनिंग रेलकर्मियों की आवाज होगी बुलंद, गूजेंगे मुद्दे - khabar abhi tak

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, February 21, 2019

दिल्ली में रनिंग रेलकर्मियों की आवाज होगी बुलंद, गूजेंगे मुद्दे


 जबलपुर। रेलवे के रनिंग स्टाफ शुक्रवार को दिल्ली में अपनी आवाज बुलंद करने जा रहे हैं।  वहां उनकी मांगों की गूंज  सुनाई देगी। देश भर से रनिंग स्टाफ व रेल मजदूर संघ के पदाधिकारी दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। 
वेस्ट सेंट्रल रेलवे मजदूर संघ द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि भारतीय रेल में विषम परिस्थितियों में काम करने वाले रनिंग कर्मचारी (गार्ड/ लोको पायलट) भारतीय रेल की आन-बान-शान बढ़ाने में, देश की एकता- अखंडता बनाये रखने में, उघोगों को चलाने में, देश की सुरक्षा कायम रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। 24 घंटे काम करने वाले रनिंग स्टाफ  की जायज मांगों को रेल मंत्रालय व भारत सरकार अटकाकर रखे है। नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन रेलवेमैन (एनएफआईआर) ने इनकी आवाज बुलंद करने व एकता प्रदर्शन के लिए 22 व 23 फरवरी को दो दिवसीय नेशनल कॉन्फ्रेंस नई दिल्ली में रखी है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  अध्यक्ष रेलवे बोर्ड विनोद कुमार यादव होगे। कॉन्फ्रेंस  में एनएफआईआर  के अध्यक्ष गुमान सिंह, महामंत्री डॉ एम राघवैय्या, एनएफआईआर के कार्यकारी अध्यक्ष व डब्ल्यूसीआरएमएस के अध्यक्ष डॉ. आरपी भटनागर, जोनल महामंत्री अशोक शर्मा तथा पूरे देश के रेल जोनों से रनिंग स्टाफ  शामिल होगे। 

इन मुद्दों की सुनाई देगी गूंज 

रनिंग स्टाफ  के किमी रेट व मूलवेतन में 30 प्रतिशत को जोड़कर मल्टी प्लाई फेक्टर सातवें पे-कमीशन के अनुसार बढाये जाने। मूलवेतन में 30 प्रतिशत को जोड़कर वार्षिक वृद्धि देना, यूनिफार्म भत्ता 10,000/- करना, सीनियर लोको पायलट व शंटर से गुड्स ड्राइवर बने स्टॉफ को न्यूनतम  पे मेट्रिक्स 14790 में रखना, रिस्क एलाउन्स देना, एसपीएडी केस में सुधार करना, स्पेयर ऑन ड्यूटी स्टॉफ  को रिजर्वेशन में कोटा देने,  एनपीएस बन्द करने, किसी भी परिस्थिति में 8 घंटे से ज्यादा ड्यूटी न ली जाये आदि मुद्दे पर गहन चर्चा होगी। कॉन्फ्रेंस में भाग लेने डब्ल्यूसीआरएमएस के जोनल महामंत्री अशोक शर्मा, कमलेश परिहार, प्रध्दुमन कुमार,संतोष त्रिवेणी, मुकेश शुक्ला, संतोष चतुर्वेदी आदि आज नई दिल्ली के लिए रवाना हुए। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here