कामायनी एक्सप्रेस में चढ़ते समय भाई-बहन गिरे, जांबाज आरक्षक ने बचाया - khabar abhi tak

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, May 18, 2019

कामायनी एक्सप्रेस में चढ़ते समय भाई-बहन गिरे, जांबाज आरक्षक ने बचाया


भोपाल स्टेशन पर हादसा, चलती ट्रेन में चढ़ रही युवती को बचाने कूदे दो युवक भी चपेट में आए, बाल-बाल बचे सभी
जबलपुर। पश्चिम मध्य रेलवे (पमरे) के भोपाल स्टेशन पर कामायनी एक्सप्रेस में शुक्रवार सुबह एक बड़ा हादसा होते-होते बचा। जांबाज आरपीएफ आरक्षक की सूझबूझ और त्वरित कार्यवाही के चलते भाई-बहन समेत एक अन्य युवक दुर्घटना के शिकार होने से बच गए। घटना उस समय घटित हुई जब कामायनी एक्सप्रेस भोपाल स्टेशन से रवाना हो रही थी, उसी समय नाश्ता आदि लेने के लिए उतरेी युवती चलती ट्रेन में चढऩे लगी, तभी उसका बैलेंस बिगड़ा और वह घिसटने लगी, उसे बचाने उसका भाई और एक अन्य युवक पकडऩे लगे, लेकिन वे भी गिर गए और ट्रेन के साथ-साथ घिसटने लगे। जिसे देखकर आरपीएफ के आरक्षक ने तत्काल दौड़ लगाकर तीनों को पकड़ कर खींचा और उन्हें ट्रेन के नीचे जाने से बचाया। घटना शुक्रवार सुबह 7.54 बजे भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 की है। कामायनी एक्सप्रेस (11072) सुबह 7.54 बजे प्लेटफार्म-1 पर आई थी, जो सुबह 8 बजे रवाना हो गई। इस बीच चलती ट्रेन में 26 वर्षीय युवती आर मिश्रा और उसके भाई समेत छह लोग वाराणसी से मुंबई जा रहे थे। कोच बी-2 में उनकी सीट थी। भोपाल स्टेशन पर आर मिश्रा और उसका भाई खाने-पीने का सामान लेने उतरे थे, वे वापस ट्रेन में जाते उससे पहले ट्रेन चल पड़ी थी। युवती भागकर ट्रेन में चढऩे की कोशिश करने लगी। उसे बचाने युवती का भाई समेत दो लोग और आगे आए। ट्रेन रफ्तार में थी, जिसके कारण उनका बैलेंस बिगड़ गया और वे तीनों एक-दूसरे पर जा गिरे। इसी दौरान वहां खड़े आरपीएफ के एक आरक्षक अंगद सिंह ठाकुर और लोगों ने दौड़कर भाई-बहन को पकड़ लिया। इसके कारण वे ट्रेन की चपेट में आने से बच गए।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here