Home / railway / पमरे जीएम ने दी चलित शील्ड, हिन्दी में बेस्ट वर्क के लिए भाजीबीनि को प्रथम पुरस्कार

पमरे जीएम ने दी चलित शील्ड, हिन्दी में बेस्ट वर्क के लिए भाजीबीनि को प्रथम पुरस्कार

जबलपुर। राजभाषा हिंदी में सर्वाधिक एवं सराहनीय कार्य के लिए भारतीय जीवन बीमा निगम को प्रथम, एचपीसीएल को द्वितीय तथा केन्द्रीय विद्यालय, सीएमएम को तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इस उपलब्धि पर नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति के अध्यक्ष व पश्चिम मध्य रेल के महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय ने इन कार्यालयों को चलित शील्ड से सम्मानित किया।

पश्चिम मध्य रेल के नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति, कार्यालय-2, जबलपुर की चौथी छ:माही बैठक 5 दिसंबर को महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय ने कहा कि संस्कारधानी स्थित विभिन्न केन्द्रीय कार्यालयों/उपक्रमों एवं संस्थानों से पधारे महानुभावों से मिलकर मुझे बड़ी प्रसन्नता हो रही है। उन्होंने कहा कि आज आप सभी की उपस्थिति राजभाषा हिंदी के प्रति आपकी लगन एवं निष्ठा को दर्शाती है जो राजभाषा की प्रगति की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने कहा कि इस समिति के माध्यम से हम मिलजुल कर हमारे कार्यालयों में राजभाषा प्रयोग-प्रसार की उत्तरोत्तर प्रगति हेतु हर संभव प्रयास करेंगे।

पमरे महाप्रबंधक ने विभिन्न केन्द्रीय कार्यालयों/उपक्रमों एवं संस्थानों से पधारे विभाग प्रमुखों से राजभाषा प्रयोग-प्रसार बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रोत्साहन योजनाओं का प्रचार -प्रसार, हिन्दी पत्रिकाओं का प्रकाशन, हिन्दी कार्यशालाओं, प्रतियोगिताओं एवं विविध गतिविधियों का नियमित रूप से आयोजन कर अपने- अपने कार्यालयों में राजभाषा हिंदी के प्रयोग-प्रसार को बढ़ाने का आह्वान किया। उन्होंने राजभाषा हिंदी के सर्वाधिक एवं सराहनीय कार्य के लिए पुरस्कृत भारतीय जीवन बीमा निगम, एचपीसीएल तथा केन्द्रीय विद्यालय, सीएमएम के अधिकारियों को बधाई दी तथा कहा अन्य कार्यालयों से अपेक्षा है कि वे अपने प्रयास जारी रखें ताकि भविष्य में उन्हें भी यह सम्मान प्राप्त हो सके।

पमरे महाप्रबंधक ने कहा कि सचिव द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन केे अनुसार कुछ मदों में हमारी प्रगति अत्यंत सराहनीय है, जिसके लिए आप सभी बधाई के पात्र हैं। उन्होंने आगे कहा कि धारा 3 ( 3 ) और हिन्दी में प्राप्त पत्रों के उत्तर हिन्दी में देने में हमारे कुछ कार्यालयों की स्थिति संतोषजनक नहीं है। अध्यक्ष महोदय ने उनके कार्यालय प्रमुखों से आग्रह किया कि जो कार्यालय इन मदों में पिछड़ रहे हैं, वे इस ओर विशेष ध्यान दें। उन्होंने कार्यालय प्रमुखों से कहा कि सरकारी कामकाज में अधिक से अधिक हिंदी का प्रयोग किया जाए और भारत सरकार की राजभाषा नीति का पालन कर राष्ट्रीय विकास में सहयोग प्रदान करें।

बैठक में नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति, कार्यालय-2 के सचिव, पीएस बगड़वाल, वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी ने विभिन्न कार्यालयों द्वारा प्रेषित तिमाही प्रगति रिपोर्ट के आधार पर समेकित अद्र्धवार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत की। इस बैठक में पश्चिम मध्य रेलवे के अपर महाप्रबंधक अंशुल गुप्ता एवं मुख्य राजभाषा अधिकारी राजेश अर्गल सहित जबलपुर स्थित विभिन्न केन्द्रीय कार्यालयों, संस्थानों एवं उपक्रमों के विभाग प्रमुखों के साथ उनके कार्यालयों के राजभाषा प्रभारी एवं हिंदी अधिकारी उपस्थित थे। उपस्थित सदस्यों ने अपने कार्यालयों की राजभाषा प्रगति तथा उल्लेखनीय कार्यों से अध्यक्ष महोदय को अवगत कराया तथा राजभाषा के प्रयोग प्रसार और नराकास के सुचारू संचालन हेतु कई बहुमूल्य सुझाव दिए। बैठक का संचालन सचिव, नराकास, पीएस बगड़वाल, वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी तथा आभार प्रदर्शन श्रीकांत बनवासी, राजभाषा अधिकारी, पश्चिम मध्य रेलवे द्वारा किया गया।

About Editor

यह भी पढ़ें

ई वेस्ट के निपटान में इंजीनियरिंग विद्यार्थियों की अहम भूमिका – रोहित सिंह कौशल

जबलपुर । ई वेस्ट के संकलन और निपटान में इंजीनियरिंग विद्यार्थियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *