Home / railway / आधी रात को कपकपाती ठंड में महाप्रबंधक ने रेलवे ट्रैक का निरीक्षण किया

आधी रात को कपकपाती ठंड में महाप्रबंधक ने रेलवे ट्रैक का निरीक्षण किया

जबलपुर. गलन वाली  02 डिग्री सेल्सियस के तापमान की कप-कपाती ठंड भरी रात में जितनी ख़ुशी रजाई के अन्दर रहने पर किसी इन्सान को होती है उससे भी अधिक ख़ुशी कल रात रेलवे अधिकारियो ने इससे भी कम तापमान पर रात 12 से 3 बजे के बीच रेलवे लाईन के किनारे रेलवे ट्रैक को सुरक्षित एवं रेल कर्मचारियों को मुस्तेद देखकर महसूस की. रेलवे की संरक्षा की जाँच करने के लिए पश्चिम मध्य रेल के महाप्रबंधक श्री अजय विजयवर्गीय 28-29 दिसंबर को रात 12 बजे, जोन के मुख्य संरक्षा आयुक्त श्री बी.के.गुप्ता एवं मंडल रेल प्रबंधक डॉ मनोज सिंह के साथ देवरी एवं गोसलपुर स्टेशन के बीच रेलवे फाटक न. 326 पर पहुचे.यहाँ पहुचकर रेल अधिकारियो ने रेलवे फाटक से गुजरती ट्रेनों को देखा एवं रेलवे ट्रैक की निगरानी कर रहे पैट्रोलमेनो से मिले, रेलवे लाईन में ठंड से होने वाले रेल फेक्चर से रेल दुर्घटना की संभावना अधिक होती है जिससे यात्रियों को उनके मुकाम तक सुरक्षित पहुचाना एक टेड़ी-खीर होता है. लेकिन पमरे के अधिकारियो की टीम ने ओचक निरीक्षण करके इस दिशा में न सिर्फ स्वयं के जागरूक होने बल्कि संरक्षा के कार्य में लगे रेल कर्मचारियों के कार्य को नजदीक से देखा एवं उनकी जागरूकता की सराहना की.

 इस ओच्चक निरीक्षण के समय महाप्रबंधक श्री विजयवर्गीय एवं डी.आर.एम. डॉ सिंह ने देवरी (पनागर) स्टेशन की साफ सफाई रिकार्ड मेंटनेंस के लिए सहा.स्टेशान मास्टर एच.एस.राजपूत पॉइंट्स मेन उत्तम सिंह, गेट में आकाश, ई.एस.एम. अंकित पटेल के कार्य की प्रशंसा करते हुए पुरष्कृत करने की घोषणा की .इस मौके पर वरिष्ठ मंडल अभियंता श्री विजय पाण्डेय, वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी श्री सौरभ मिश्रा, मंडल यातायात प्रबंधक श्री रोहित मालवीय सहित अन्य अधिकारी  भी मौजूद थे. उक्त अधिकारियो ने रात 12 बजे से तीन बजे तक कपकपाती ठंड में रेल खंड का मुआयना करने के बाद सड़क मार्ग से वापस जबलपुर लौटे

उल्लेखनीय है कि रेलवे के ट्रैक की रखवाली करने वाले पैट्रोल मेन प्रति दिन दो-दो के ग्रुप में 16 किलो मीटर तक पैदल चलकर रेल लाइन को देखते है.मंडल द्वारा ट्रैक मेनो को विशेष जैकेट, टार्च, हेलमेट,विशेष जूते एवं संचार के उपकरणों उपलब्ध कराये गए है जिनका उपयोग गस्त के दौरें किया जाता है. वर्तमान समय में ठंड के बढ़ने पर रेलवे लाईन सिकुड़ कर टूट सकती है जिससे रेलवे आवागमन अवरुद्ध हो जाता है इसके बचाव का एक मात्र साधन सिर्फ इसकी रखवाली एवं सतर्कता है जिसका निरीक्षण जबलपुर मंडल में उक्त अधिकारियो ने किया एवं उत्त्साह एवं भरपूर उर्जा के साथ  रेल कार्य करने वाले कर्मचारियों श्री चंद्रकांत एवं श्री भारद्वाज एवं  गेट मेन श्री आकाश के कार्य की सराहना करते हुए उन्हें पुरस्कृत करने की घोषणा की. रेलवे गेट पर रूक कर अधिकारियो ने गेट खुला होने पर, रेलगाड़ी के गुजरने पर रेड लाइट के सिग्नल,जी.पी.एस.ट्रेकर की कार्य प्रणाली को भी देखा. उल्लखनीय है कि रेलवे में गेट मेन लगातार 12 घंटे तक ड्यूटी करते हुए लगभग 60 से 70 ट्रेनों को पास करते है इस दौरान वे ट्रेन आने पर गेट बंद करके रेल एवं सड़क संपर्क को विच्छेद करके सड़क यात्रियों को भी सुरक्षा प्रदान करते है.     

About Editor

यह भी पढ़ें

जबलपुर-हरिद्वार, जबलपुर-पुणे स्पेशल को करो नियमित, मैसूर तक बढ़ाई जाए यशवंतपुर स्पेशल

जबलपुर। पश्चिम मध्य रेल क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति की 16 वीं बैठक 17 जनवरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *