Home / railway / राजभाषा कार्यान्वयन के सामूहिक प्रयासों और उपलब्धियों पर पमरे जीएम ने की सराहना

राजभाषा कार्यान्वयन के सामूहिक प्रयासों और उपलब्धियों पर पमरे जीएम ने की सराहना

जबलपुर। क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्वयन समिति, पश्चिम मध्य रेलवे, जबलपुर की 44वीं बैठक 26 दिसंबर को महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय की अध्यक्षता में हुई। बैठक के आरंभ में महाप्रबंधक श्री विजयवर्गीय ने मुख्यालय, राजभाषा विभाग द्वारा प्रकाशित गृह पत्रिका राजभाषा सरिता के 30वें अंक का विमोचन किया। उन्होंने कहा कि यह हर्ष का विषय है कि पश्चिम मध्य रेलवे पर भारत सरकार की राजभाषा नीति का अनुपालन सुचारू रूप से किया जा रहा है। हमारे मंडलों तथा कारखानों द्वारा राजभाषा प्रयोग-प्रसार के क्षेत्र में काफी अच्छा कार्य किया जा रहा है। साथ ही मुख्यालय के विभागों में भी हिंदी का प्रयोग लगातार बढ़ रहा है।

महाप्रबंधक श्री विजयवर्गीय ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि राजभाषा कार्यान्वयन के क्षेत्र में आप सभी के सामूहिक प्रयासों और सराहनीय कार्यों के फलस्वरूप हमने कई उपलब्धियां हासिल की हैं। विद्युत लोको शेड, कटनी को रेल मंत्री राजभाषा शील्ड एवं 14 हजार रूपयेे का नकद पुरस्कार प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा यह गौरव का विषय है कि शेड स्तर पर यह शील्ड पश्चिम मध्य रेलवे को पिछले 05 वर्षों से लगातार प्राप्त हो रही है। वर्ष 2014 में डीजल लोको शेड, इटारसी, वर्ष 2015 में विद्युत लोको शेड, तुगलकाबाद, वर्ष 2016 में डीजल लोको शेड, कटनी तथा वर्ष 2017 में विद्युत लोको शेड, इटारसी को यह शील्ड प्राप्त हुई थी।

उन्होंने कहा कि इस वर्ष महाप्रबंधक कार्यालय को भी राजभाषा हिंदी में सर्वाधिक एवं सराहनीय कार्य के लिए राजभाषा ट्राफी प्राप्त हुई है। इसके अलावा नितिन मराठे, मुख्य लोको निरीक्षक, भोपाल मंडल ने रेल मंत्रालय की लाल बहादुर शास्त्री तकनीकी मौलिक पुरस्कार योजना के अंतर्गत 07 हजार रूपये का तृतीय पुरस्कार प्राप्त कर हमारा गौरव बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि इन उपलब्धियों के लिए मैं आप सभी को बधाई देता हूॅं।
उन्होंने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि रेल मंत्रालय की विभिन्न पुरस्कार योजनाओं में हमारी रेलवे को लगातार पुरस्कार प्राप्त हो रहे हैं। जो इस बात का परिचायक है कि इस रेलवे पर भारत सरकार की राजभाषा नीति का कार्यान्वयन प्रभावी ढंग़ से किया जा रहा है। उन्होंने आगे कहा कि राजभाषा का प्रयोग एवं प्रसार बढ़ाना हमारी संवैधानिक जिम्मेदारी है। अत: मैं चाहूॅंगा कि धारा 3(3) शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित किया जाए और मूल पत्राचार में हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग किया जाए।
बैठक के प्रारंभ में मुख्य राजभाषा अधिकारी राजेश अर्गल ने महाप्रबंधक, अपर महाप्रबंधक, प्रमुख विभागाध्यक्षों तथा मंडलों एवं कारखानों के सदस्यों का स्वागत करते हुए कहा कि यह हर्ष का विषय है कि राजभाषा के प्रयोग-प्रसार के क्षेत्र में हमारे मंडल तथा कारखाने महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यालय के विभागों में भी हम उत्तरोतर प्रगति की ओर अग्रसर हैं। जिसके फलस्वरूप पश्चिम मध्य रेलवे पर राजभाषा प्रयोग-प्रसार में उल्लेखनीय प्रगति हुई है और हमें रेलवे बोर्ड स्तर पर लगातार पुरस्कार प्राप्त हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हमारे मंडलों तथा कारखानों में कार्यरत अधिकारियों द्वारा विभागीय निरीक्षणों के दौरान राजभाषा प्रगति का नियमित रूप से निरीक्षण किया जा रहा है जो कि सराहनीय है। मुख्यालय में इस मद पर और प्रगति अपेक्षित है। अत: विभाग प्रमुखों से उन्होंने पुन: अनुरोध किया कि विभागीय निरीक्षणों के दौरान राजभाषा प्रगति का निरीक्षण अवश्य करें और अपनी निरीक्षण रिपोर्ट हिंदी में जारी करवाएं। उन्होंने धारा 3(3) का शत-प्रतिषत अनुपालन करने, हिंदी में प्राप्त पत्रों के उत्तर अनिवार्य रूप से हिंदी में दिए जाने, अधिकारियों द्वारा अधिक से अधिक डिक्टेशन हिंदी में दिये जाने, रूटीन कार्यों जैसे - नोटिंग, पत्राचार, दौरा कार्यक्रम, यात्रा भत्ता बिल, फाइलोंपर टिप्पणी आदि में हिंदी का प्रयोग बढ़ाये जाने तथा सभी फाइलों और रजिस्टरों के शीर्षक हिंदी अथवा द्विभाषी कराये जाने का अनुरोध पुन: दोहराया। क्षेराकास की 44वीं बैठक में मुख्यालय के विभाग प्रमुखों, मंडलों व कारखानों के सदस्यों ने अपने विभागों, मंडलों तथा कारखानों की राजभाषा प्रगति से महाप्रबंधक जी को अवगत कराया तथा कई सुझाव प्रदान किए।

बैठक में मुख्यालय, राजभाषा विभाग द्वारा विद्युत लोको शेड, इटारसी के आरिफ खान के सहयोग से तैयार किये गये पुस्तकालय प्रबंधन साफ्टवेयर का प्रदर्शन भी किया गया। अध्यक्ष महाप्रबंधक महोदय द्वारा इस पुस्तकालय प्रबंधन साफ्टवेयर की प्रशंसा की गई तथा इसे पश्चिम मध्य रेलवे के अन्य पुस्तकालयों के साथ लिंक करने के आदेश प्रदान किये। इस प्रशंसनीय कार्य के लिए महाप्रबंधक द्वारा आरिफ खान एवं राजभाषा विभाग को 15 हजार रूपये के नकद सामूहिक पुरस्कार की घोषणा की। बैठक में अपर महाप्रबंधक अंशुल गुप्ता सहित मुख्यालय के सभी प्रमुख विभागाध्यक्ष, मंडलों व कारखानों के सदस्यगण उपस्थित थे। बैठक का संचालन पीएस बगड़वाल, वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी ने किया और बसंत शर्मा, उप मुख्य राजभाषा अधिकारी ने महाप्रबंधक एवं सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त किया।

About Editor

यह भी पढ़ें

जबलपुर-हरिद्वार, जबलपुर-पुणे स्पेशल को करो नियमित, मैसूर तक बढ़ाई जाए यशवंतपुर स्पेशल

जबलपुर। पश्चिम मध्य रेल क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति की 16 वीं बैठक 17 जनवरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *